1678346

Padmini ekadashi 2023 : पद्मिनी एकादशी व्रत मुहूर्त और पारण का समय जानें

Photo of author

By jeenmediaa


 

अधिक मास की पद्मिनी एकादशी, जानें पूजन के शुभ महूर्त

 

Adhik maas Ekadashi 2023 Date : इस वर्ष 29 जुलाई 2023, शनिवार के दिन अधिक मास तथा सावन में आने वाली पद्मिनी एकादशी मनाई जा रही है। अधिक मास में आने के कारण इस एकादशी का महत्व बहुत बढ़ गया है। इस बार श्रावण महीना भी जारी होने के कारण यह एकादशी शिव जी तथा श्रीहरि विष्णु जी के पूजन के लिए खास रहेगी। बता दें कि इस बार अधिकमास में पद्मिनी एकादशी और परम एकादशी का व्रत रखा जाता है। 

 

आइए यहां जानें पद्मिनी एकादशी 2023 के पूजा के शुभ महूर्त और पारण किस समय होगा… 

 

जुलाई 29, 2023, शनिवार : अधिक श्रावण मास पद्मिनी एकादशी

 

श्रावण शुक्ल एकादशी का प्रारंभ- शुक्रवार, 28 जुलाई को 02.51 पी एम से,

एकादशी की समाप्ति- शनिवार, 29 जुलाई को 01.05 पी एम पर। 


पारण (व्रत तोड़ने का) समय– 30 जुलाई 2023, दिन रविवार को, 05.41 ए एम से 08.24 ए एम तक। 

पारण के दिन द्वादशी समापन का समय- 10.34 ए एम पर।

 

29 जुलाई शनिवार : दिन का चौघड़िया

 

शुभ- 07.22 ए एम से 09.04 ए एम

चर- 12.27 पी एम से 02.09 पी एम

लाभ- 02.09 पी एम से 03.51 पी एमवार वेला

अमृत- 03.51 पी एम से 05.33 पी एम

 

रात का चौघड़िया : 

 

लाभ- 07.14 पी एम से 08.33 पी एम

शुभ- 09.51 पी एम से 11.09 पी एम

अमृत- 11.09 पी एम से 30 जुलाई को 12.28 ए एम, 

चर- 12.28 ए एम से 30 जुलाई को 01.46 ए एम

लाभ- 04.23 ए एम से 30 जुलाई को 05.41 ए एम तक। 

 

ब्रह्म मुहूर्त- 04.17 ए एम से 04.59 ए एम

प्रातः सन्ध्या- 04.38 ए एम से 05.41 ए एम

अभिजित मुहूर्त- 12.00 पी एम से 12.55 पी एम

विजय मुहूर्त- 02.43 पी एम से 03.37 पी एम

गोधूलि मुहूर्त- 07.14 पी एम से 07.35 पी एम

सायाह्न सन्ध्या- 07.14 पी एम से 08.17 पी एम

अमृत काल- 03.16 पी एम से 04.47 पी एम

निशिता मुहूर्त- 30 जुलाई 12.07 ए एम से 30 जुलाई 12.49 ए एम तक। 

 

अस्वीकरण (Disclaimer) : चिकित्सा, स्वास्थ्य संबंधी नुस्खे, योग, धर्म, ज्योतिष आदि विषयों पर वेबदुनिया में प्रकाशित/प्रसारित वीडियो, आलेख एवं समाचार सिर्फ आपकी जानकारी के लिए हैं। इनसे संबंधित किसी भी प्रयोग से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

ALSO READ: अधिक मास की एकादशी कौन सी है? कब आ रही है? क्या है कथा? कैसे करें पूजा?

ALSO READ: सिर्फ पुरुषोत्तम मास में ही यह एकादशी आती है, जानिए परमा एकादशी कब है, क्या है पूजा विधि?


Leave a Comment