1678346

5.5 साल बाद बांग्लादेश ने भारत को हराया, 4 विकेटों से मिली जीत

Photo of author

By jeenmediaa


INDvsBAN मीरपुर में एक बार फिर भारतीय बल्लेबाजी ने निराशाजनक प्रदर्शन किया। दूसरे टी-20 में 96 रन बनाने वाली भारतीय बल्लेबाजी तीसरे टी-20 में 102 रन बना पाई। पिछली बार तो भारतीय गेंदबाजों ने कमाल दिखाते हुए दूसरा टी-20 भारत के नाम कर लिया था लेकिन इस बार बांग्लादेश के बल्लेबाजों ने गलती नहीं की और 4 विकेट से मैच जीत लिया। हालांकि टी-20 सीरीज 2-1 से भारत के ही नाम रही।BANvsIND

भारतीय बल्लेबाजों ने फिर किया निराश, बांग्लादेश की सांत्वना भरी जीत

भारतीय बल्लेबाजों का स्पिन गेंदबाजी के खिलाफ जूझना जारी रहा जिससे बांग्लादेश की महिला क्रिकेट टीम गुरूवार को यहां तीसरे और अंतिम टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच में चार विकेट की सांत्वना भरी जीत दर्ज करने में सफल रही।

भारत ने हालांकि तीन मैचों की यह श्रृंखला 2-1 से अपने नाम की लेकिन उन्हें प्रदर्शन में सुधार करने के लिए काफी कुछ करना होगा। अब 16 जुलाई से दोनों टीम तीन मैचों की वनडे श्रृंखला के लिए आमने सामने होंगी।
भारत का बल्लेबाजी में निराशाजनक प्रदर्शन जारी रहा जिसने टॉस जीतकर बल्लेबाजी करते हुए नौ विकेट गंवाकर 102 रन बनाये।

पिछले मैच में बांग्लादेश की टीम 96 रन के लक्ष्य का पीछा भी नहीं कर पायी थी लेकिन वह 18.1 ओवर में इस लक्ष्य तक पहुंचने में सफल रही।उसके लिये सलामी बल्लेबाज शमिमा सुल्ताना (46 गेंद में 42 रन) ने पारी संभाली और टीम इस मैच में सांत्वना भरी जीत हासिल कर पायी।

भारतीय बल्लेबाजों के लिए स्पिन के लिए मददगार विकेट पर बल्लेबाजी करना आसान नहीं रहा और खिलाड़ियों में धीमी गेंदबाजों को दबाव में लाने के लिए जरूरी आक्रामकता की कमी दिखी। कप्तान हरमनप्रीत कौर के अलावा कोई भी बल्लेबाज तीन मैचों में बाउंड्री नहीं लगा सकीं।

ऑफ स्पिनर मीनू मणि (28 रन देकर दो विकेट) का प्रदर्शन हालांकि भारत के लिए सकारात्मक चीज रही। हालांकि जब नया मुख्य कोच टीम की जिम्मेदारी संभालेगा तो उन्हें अगले साल टीम के टी20 विश्व कप के लिए बांग्लादेश लौटने के लिए काफी काम करना होगा।

इससे पहले हरमनप्रीत ने 41 गेंद में 40 रन बनाये जिसके बाद अंतिम ओवरों में बल्लेबाजी क्रम चरमराने से भारत ने 11 रन के अंदर छह विकेट गंवा दिये।

लेग स्पिनर राबिया खान ने बांग्लादेश के लिये सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया, उन्होंने चार ओवर में 16 रन देकर तीन विकेट झटके। ऑफ स्पिनर सुल्ताना खातून ने पावरप्ले में प्रभावित किया, उन्होंने शेफाली वर्मा (11 रन) और स्मृति मंधाना (01) की सलामी जोड़ी को आउट किया। मारूफा अख्तर ने भी दो विकेट हासिल किये।

इस कम स्कोर वाली पूरी श्रृंखला के दौरान पिच काफी पेचीदा रही है जिसे देखते हुए हरमनप्रीत ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया।

शेफाली और मंधाना की सलामी जोड़ी एक बार फिर भारत को अच्छी शुरुआत दिलाने में विफल रही जिससे छह ओवर में टीम का स्कोर दो विकेट पर 27 रन हो गया।

जेमिमा रोड्रिग्स (26 गेंद में 28 रन) और हरमनप्रीत ने तीसरे विकेट के लिए 45 रन की साझेदारी निभाकर पारी आगे बढ़ायी। लेकिन लेग स्पिनर शोर्ना अख्तर ने रोड्रिग्स की पारी खत्म कर इस भागीदारी को तोड़ा। रोड्रिग्स ने अपनी पारी के दौरान सकारात्मक जज्बा दिखाया और स्पिनरों के खिलाफ अपने पैरों का अच्छा इस्तेमाल किया।

हरमनप्रीत के 17वें ओवर में स्टंप आउट होने के बाद लगातार विकेट गिरते रहे जिससे भारतीय बल्लेबाज बाउंड्री नहीं लगा सकीं।
  


Leave a Comment