1678346

5 राज्यों में किसकी बनेगी सरकार? क्या कहता है ज्योतिषीय का एग्जिट पोल

Photo of author

By jeenmediaa


State election 2023: मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, तेलंगाना और मिजोरम में हाल ही में चुनाव संपन्न हुए हैं। 3 दिसंबर को चुनाव के परिणाम आने वाले हैं लेकिन इसे पहले हम ज्योतिष की एक गणना के आधार पर जान लेते हैं कि किस राज्य में किस पार्टी की सरकार बनने वाली है। हमारा यह विश्लेषण हिंदू पंचाग और अन्य ज्योतिषियों के द्वारा किए जा रहे प्रिडिक्शन पर आधारित है जिसके सही या गलत होने का वेबदुनिया दावा नहीं करता है, क्योंकि यह एक ज्योतिष आंकलन और अनुमान पर आधारित विश्लेषण है।
 

 

राहु और केतु के परिवर्तन के चलते सत्ता परिवर्तन के योग बनते हैं। हालांकि गुरु और शनि ने भी इस बार अपनी चाल बदली है जिसके चलते चलते मुकाबला बहुत आसपास का नजर आ रहा है।
 

मध्य प्रदेश : ज्योतिष विश्लेषण के अनुसार कांग्रेस का प्रदर्शन अच्छा रहेगा लेकिन सत्ता पक्ष सरकार बनने में कामयाब हो सकता है। शिवराजसिंह चौहान की राशि है धनु और कमलनाथ जी की राशि है सिंह। रिजल्ट वाले दिन चंद्रमा कर्क राशि में रहेंगे। चंद्रमा शिवराजसिंह की कुंडली में नवम भाव में और कमलनाथ की कुंडली में द्वादश भाव में रहेंगे। इससे रिजल्ट आने की संभावना लगभग समान रहने की संभावना है। कुछ ज्योतिष विश्लेषण के अनुसार बहुत कम अंतर से कांग्रेस की जीत होगी और वह सरकार बना सकती है।

 

मध्यप्रदेश धनु लग्न और कन्या राशि का राज्य है। कुंडली का सबसे महत्वपूर्ण ग्रह बुध गोचर हुआ। जब चुनाव हुए वह वृश्चिक राशि में थे। सूर्य मध्यप्रदेश की राजनीति में भाग्य स्थान का ग्रह है, वह वृष एक राशि में बैठे हुए थे। राहु का मीन राशि में केतु का कन्या राशि परिवर्तन हुआ है जो वर्तमान सरकार के लिए कठिन माना जा रहा है। शुक्र राजनीति का कारक ग्रह कन्या राशि में नीच का होकर भ्रमण करता रहा। 17 नवंबर की कुंडली पूरे दिन भर पूर्वाआषा मतलब धनु राशि में भ्रमण करता रहा। भाजपा की कुंडली में शनि का ढैया चल रहा है। शनि भाजपा को परेशान कर सकता है। कांग्रेस के लिए वृश्चिक राशि में शुभ परिणाम आ रहे हैं, लेकिन कांग्रेस की यदि सरकार बन भी जाती है तो 5 साल नहीं चल पाएगी।

 

राजस्थान : ज्योतिष विश्लेषण के अनुसार राजस्थान में भाजपा और कांग्रेस में अधिकतर सितारे कांग्रेस के पक्ष में जा रहे हैं। ऐसा विश्लेषण है कि भाजपा वसुंधराराजे के कारण ही चुनाव जीत सकती है। यदि राजे ने साथ नहीं दिया तो कांग्रेस की जीत तय होती नजर आ रही है। एक अन्य विश्लेषण के अनुसार राजस्थान की प्रभाव राशि तुला पर केतु का गोचर है। तुला राशि से दशमेश चंद्र और राहु के साथ ग्रहण योग बना रहे हैं। मौजूदा सरकार को ग्रहण लगेगा। अश्‍विन नक्षत्र में वोटिंग हुई है। इसका स्वामी केतु है। केतु धर्म ध्वजा है। शासन और शासक दोनों के ही बदलने के संकेत हैं। कई ज्योतिष त्रिशुंकी विधानसभा बता रहे हैं। हालांकि कुछ ज्योतिषियों का मानना है कि भाजपा के 11वें भाव में राहु और कांग्रेस के चंद्र 11वें भाव में है। ऐसे में राहु की ही जीत होगी। राजस्थान में सत्ता परिवर्तन के प्रबल योग है।

 

तेलंगाना : तेलंगाना में राहु की दशम में चंद्रमा की अंतर्दशा के चलते मुख्यमंत्री के.सी.आर फिर से मुख्यमंत्री बन सकते हैं। प्रदेश में कांग्रेस का प्रदर्शन भी अच्‍छा रहेगा। भाजपा को तीसरे नंबर की पार्टी माना जा सकता है। हालांकि कई ज्योतिषियों का मानना है कि केतु के कारण सत्ता परिवर्तन तय है।

छत्तीसगढ़ : छत्तीसगढ में सितारे सत्ता पक्ष का ही समर्थन कर रहे हैं। कोई चमत्कार ही भाजपा को जीता सकता है। छत्तीसगढ़ की वृषभ लग्न की कुंडली है और इसमें द्वादश भाव में गुरु चांडाल योग का निर्माण हुआ है। 30 अक्टूबर 2023 के बाद राहु के परिवर्तन करने के बाद और गुरु के द्वादश भाव में रहने से भाजपा के पक्ष में माहौल बना था जिसके चलते यह कहा जा सकता है कि छत्तीगढ़ में भाजपा की सरकार बन सकती है। यह विश्लेषण राज्य की कुंडली के अनुसार है। लेकिन वर्तमान मुख्यमंत्री भुपेश बघेल की कुंडली कुछ और कहती है। यहां कांग्रेस के सितारे बुलंद नजर आ रहे हैं।

 

मिजोरम : इस राज्य में जोरमथंगा सरकार की पार्टी मिजो नेशनल फ्रंट (MNF) के लिए यह कठिन समय है। कांग्रेस से इस पार्टी को कड़ी टक्कर मिलेगी। मिजोरम की कुंडली के लग्न में बैठे वक्री शनि इस प्रदेश को एक कृषि आधारित अर्थव्यस्था वाला प्रदेश बनाते हैं। लग्न पर छठे भाव से मंगल की दृष्टि पड़ से यह राज्य पड़ोसी राज्यों के साथ विवादों में भी उलझा रहेगा। वर्तमान में मिजोरम प्रदेश की कुंडली में शनि की महादशा में राहु की अंतर्दशा मई 2021 से मार्च 2024 तक है। यह स्थिति भी राज्य में हिंसा को जन्म देती है। वर्तमान में शनि में राहु में चन्द्रमा की विंशोत्तरी दशा में यह चुनाव हुए हैं जिसके चलते वर्तमान मुख्यमंत्री ज़ोरामथंगा के लिए यह समय मुश्किलों भरा समय रहेगा। यदि राहु अपना कोई असर नहीं दिखाता है तो सत्ता पक्ष की ही सरकार बनेगी। लेकिन मिजोरम की वृश्चिक लग्न की कुंडली में राज सत्ता के दशम भाव में सिंह राशि पर कुंभ राशि में गोचर कर रहे शनि तथा मेष रही में गोचर कर रहे गुरु दोनों की दृष्टि के कारण राज्य में सत्ता परिवर्तन के ज्योतिषीय योग भी निर्मित हो रहे हैं। विपक्षी दल जोराम पीपल्स फ्रंट के नेता लालदुहोमा और कांग्रेस पार्टी की मिली जुली सरकार के आने की ज्योतिषीय संभावना भी नजर आ रही है।


Leave a Comment