1678346

श्रावण का तीसरा और अधिकमास का पहला मंगला गौरी व्रत 18 जुलाई को

Photo of author

By jeenmediaa


 

2023 Mangla Gauri Vrat : श्रावण महीने में 18 जुलाई 2023 से अधिक मास का प्रारम्भ हो रहा है। और श्रावण अधिकमास का प्रथम मंगला गौरी व्रत 18 जुलाई 2023, दिन मंगलवार को मनाया जा रहा है। यह अधिकमास का पहला और श्रावण मास का तीसरा मंगला गौरी (3rd Mangla Gauri Vrat 2023) व्रत है, जो श्रावण शुक्ल एकम को मनाया जा रहा है।

आइए जान‍ते हैं इस व्रत के बारे में खास सामग्री- 

 

मंगला गौरी व्रत के शुभ मुहूर्त- Mangala Gauri Pooja Muhurat

 

अभिजित मुहूर्त- 12.00 पी एम से 12.55 पी एम तक।

अमृत काल- 19 जुलाई को 12.49 ए एम से 02.37 ए एम तक। 

नक्षत्र- पुष्य (पूर्ण रात्रि तक)

योग- हर्षण 

 

पूजा विधि : Mangala Gauri Pooja Vidhi

 

– श्रावण मास के मंगलवार के दिन ब्रह्म मुहूर्त में जल्दी उठें। 

– नित्य कर्मों से निवृत्त होकर साफ-सुथरे धुले हुए अथवा नए वस्त्र धारण कर व्रत करें।

– मां मंगला गौरी (पार्वती जी) का एक चित्र अथवा प्रतिमा लें। 

– फिर निम्न मंत्र के साथ व्रत करने का संकल्प लें। – 'मम पुत्रापौत्रासौभाग्यवृद्धये श्रीमंगलागौरीप्रीत्यर्थं पंचवर्षपर्यन्तं मंगलागौरीव्रतमहं करिष्ये।’ अर्थात्- मैं अपने पति, पुत्र-पौत्रों, उनकी सौभाग्य वृद्धि एवं मंगला गौरी की कृपा प्राप्ति के लिए इस व्रत को करने का संकल्प लेती हूं।

– तत्पश्चात मंगला गौरी के चित्र या प्रतिमा को एक चौकी पर सफेद फिर लाल वस्त्र बिछाकर स्थापित किया जाता है। 

– प्रतिमा के सामने एक घी का दीपक (आटे से बनाया हुआ) जलाएं। दीपक ऐसा हो जिसमें 16 बत्तियां लगाई जा सकें।

– फिर 'कुंकुमागुरुलिप्तांगा सर्वाभरणभूषिताम्। नीलकण्ठप्रियां गौरीं वन्देहं मंगलाह्वयाम्…।।' यह मंत्र बोलते हुए माता मंगला गौरी का षोडशोपचार पूजन करें।

 – माता के पूजन के पश्चात उनको (सभी वस्तुएं 16 की संख्या में होनी चाहिए) 16 मालाएं, लौंग, सुपारी, इलायची, फल, पान, लड्डू, सुहाग की सामग्री, 16 चूड़ियां तथा मिठाई अर्पण करें। इसके अलावा 5 प्रकार के सूखे मेवे, 7 प्रकार के अनाज-धान्य (जिसमें गेहूं, उड़द, मूंग, चना, जौ, चावल और मसूर) आदि चढ़ाएं।

 – पूजन के बाद मंगला गौरी की कथा सुनी जाती है।

 – इस व्रत में एक ही समय अन्न ग्रहण करके पूरे दिन मां पार्वती की आराधना की जाती है। 

 – शिवप्रिया पार्वती को प्रसन्न करने वाला यह सरल व्रत करने वालों को अखंड सुहाग तथा पुत्र प्राप्ति देता है। 

 

मंगला गौरी व्रत कथा- Mangala Gauri Vrat Katha

 

मंगला गौरी व्रत की पौराणिक कथा के अनुसार, एक समय की बात है एक शहर में धरमपाल नाम का एक व्यापारी रहता था। उसकी पत्नी काफी खूबसूरत थी और उसके पास काफी संपत्ति थी। लेकिन उनके कोई संतान नहीं होने के कारण वे काफी दुखी रहा करते थे। ईश्वर की कृपा से उनको एक पुत्र की प्राप्ति हुई लेकिन वह अल्पायु था। उसे यह श्राप मिला था कि 16 वर्ष की उम्र में सांप के काटने से उसकी मौत हो जाएगी। 

 

संयोग से उसकी शादी 16 वर्ष से पहले ही एक युवती से हुई जिसकी माता मंगला गौरी व्रत किया करती थी। परिणामस्वरूप उसने अपनी पुत्री के लिए एक ऐसे सुखी जीवन का आशीर्वाद प्राप्त किया था, जिसके कारण वह कभी विधवा नहीं हो सकती थी। अत: अपनी माता के इसी व्रत के प्रताप से धरमपाल की बहु को अखंड सौभाग्य की प्राप्ति हुई। इस वजह से धरमपाल के पुत्र ने 100 साल की लंबी आयु प्राप्त की। 

 

तभी से ही मंगला गौरी व्रत की शुरुआत मानी गई है। इस कारण से सभी नवविवाहित महिलाएं इस पूजा को करती हैं तथा गौरी व्रत का पालन करती हैं और अपने लिए एक लंबी, सुखी तथा स्थायी वैवाहिक जीवन की कामना करती हैं। जो महिला उपवास का पालन नहीं कर सकतीं, वे भी कम से कम पूजा तो करती ही हैं। 

 

इस कथा को सुनने के बाद विवाहित महिला अपनी सास तथा ननद को 16 लड्डू देती है। इसके बाद वे यही प्रसाद ब्राह्मण को भी देती है। इस विधि को पूरा करने के बाद व्रती 16 बाती वाले दीये से देवी की आरती करती है। व्रत के दूसरे दिन बुधवार को देवी मंगला गौरी की प्रतिमा को नदी या पोखर में विसर्जित कर दी जाती है। अंत में मां गौरी के सामने हाथ जोड़कर अपने समस्त अपराधों के लिए एवं पूजा में हुई भूल-चूक के लिए क्षमा मांगी जाती है। 
मंत्र मंगला गौरी : Mangala Gauri Mantra  

 

1. उमामहेश्वराभ्यां नम:। 

2. ह्रीं मंगले गौरि विवाहबाधां नाशय स्वाहा।

3. गण गौरी शंकरार्धांगि यथा त्वं शंकर प्रिया। मां कुरु कल्याणी कांत कांता सुदुर्लभाम्।।

4. अस्य स्वयंवरकलामंत्रस्य ब्रम्हा ऋषि, अतिजगति छन्द:, देवीगिरिपुत्रीस्वयंवरादेवतात्मनो अभीष्ट सिद्धये

5. नमो देव्यै महादेव्यै शिवायै सततं नम:। नम: प्रकृत्यै भद्रायै नियता:प्रणता:स्म ताम्।। श्रीगणेशाम्बिकाभ्यां नम:, ध्यानं समर्पयामि। 

 

अस्वीकरण (Disclaimer) : चिकित्सा, स्वास्थ्य संबंधी नुस्खे, योग, धर्म, ज्योतिष आदि विषयों पर वेबदुनिया में प्रकाशित/प्रसारित वीडियो, आलेख एवं समाचार सिर्फ आपकी जानकारी के लिए हैं। इनसे संबंधित किसी भी प्रयोग से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

ALSO READ: सावन विशेष : माता मंगला गौरी व्रत की आरती, यहां पढ़ें

ALSO READ: सावन 2023 में कितने होंगे मंगला गौरी व्रत, जानें पूरी लिस्ट

 


Leave a Comment